bus aise hi chalo

शाम के बाद
चाय पी लेने के बाद
सान्वी के घर आ जाने के बाद
जब अमर जी के यहाँ
जाने को तुम बोली थी
और मैं थोड़ा confuse था
To find the reason, why ??
और तुमने बोला

पढ़ लिख लेने के बाद
आदमी का न दिमाग ख़राब हो जाता है
हरेक चीज में reason खोजता है
..अरे बस ऐसे ही चलो

शायद
जब तुम पहाडों में रहती होगी
सभी लोग बस ऐसे ही
एक दुसरे से मिलते होंगे
बिना की reason के
… और वो ख्याल तुम्हारा
तुमसे कहता है
बस ऐसे ही मिलने चलो

और फिर
जब अमर जी के यहाँ पहुँचे
तो …पता चला की
वो लोग अभी घर पे नहीं है
तभी
झमा झम – झमा झम
बारिश शुरू हो गयी
तुम फटाफट घर चली गयी वापस
और मैं वहीं पे बाहर
उनके घर के porch में
बैठ गया
और ये कविता लिखने लगा

बारिश कभी नहीं पूछती है धरती से
आऊं… या ना आऊं
बारिश बस आ जाती है

शाम की टुकटुकी बत्ती
जो पेड़ों के झुरमुट में छुपा है
मीच मीच कर रहा है
जैसे की चिलम पी रहा हो,
और विशाल वृक्ष
ऊपर की तरफ मुंह कर के
गगन का सारा बारिश पी रहा हो,
और पास की bougainvillea
अपने रंगो का
brush धो रही हो
की सुबह फिर से
धरती को रंगीन करना है

और हाँ
इस बारिश में थोड़ा भी क्रोध नहीं है
थोड़ी भी बिजली नहीं कड़क रही
आकाश की उँगलियों पे
symphony अंकित होगा
एक सरगम का एहसास
एक प्यारी सी नाद की अनुभूति
जैसे…
इस पल में ठहर गया हो सब
जब तक ये concert खत्म नहीं होता
अनंत की यात्रा पे आया हूँ मैं …

Thank you, Rupa
अमर जी के घर लाने के लिए।


 

Sham ke baad
chay pi lene ke baad
Sanvi ke ghar aa jane ke bad,
Jab Amar ji ke yahan
jane ko tum boli thi
aur main thoda confuse tha
To find the reason, why ??
aur tumne bola…

Padh likh lene ke baad
Aadmi ka na, dimag kharab ho jata hai
Harek cheej me reason khojta hai, huh !!!
Bus aise hi chalo…

Shayad,
tum jab pahadon me
rahti hogi
sabhi log bus aise hi
ek doosre se milte honge
bina kisi reason ke…
….Aur wo khayal tumhara
tumse kahta hai
Bus aise hi milne chalo…

Aur phir
jab Amar ji ke yahan pahunche
aur pata chala ki
Wo log abhi ghar pe nahin Hain,
Tabhi…
Jhamaa jhamm, jhama jhamm…
Barish shuru ho gayi
tum fatafat ghar chali gayi vapas,
aur main wahin pe bahar
Unke ghar ke porch me
baith gaya
aur ye Kavita likhne laga ..

Barish kabhi nahin puchhti hai
Dharti se
aaoon…??? ya na aaoon…??
barish bus aa jati hai…

Sham ki tuktuki batti
jo pedon ke jhurmut me chhupa hai
mich mich kar raha hai
jaise ki chilam pi raha ho,
Aur vishal vriksh
upar ki taraf munh kar ke
gagan ka sara barish pi raha ho,
Aur pass ki bougainvillea
apne rango ka
brush dho rahi ho
ki subah phir se
dharti ko rangeen karna hai,

Aur haan,
Is baarish me thoda bhi krodh nahin
thodi bhi bijali nahin kadak rahi,
Aakash ki ungliyon pe
symphony ankit hoga
ek sargam ka ehsas
ek pyari si naad ki anubhuti
Jaise…
is pal me thahar gaya ho sab
jab tak ye concert khatam nahin hota
anant ki yatra pe aaya hun main

Thank you, Rupa
Amar ji ke ghar laane ke liye.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *